रमज़ानुल मुबारक की मखसूद दुआए

Blessing of Ramadan

शहरीकी निय्यत
नवयतो अन असुमो गदनलिल्लाहे तआला मीन फर्जे रमजान हाज़ा
इफ्तारकी दुआ
अल्लाहुम्मा लका सुमतो व बेका आमन्तो व अलयका तवक्कलतो व अला रिज़्क़ेका अफ्तरतो फतकब्बल मिन्नी

अय अल्लाह मुझे लैलतुल कद्र नसीब फरमा।
अय अल्लाह मुझे कामिले ईमान नसीब फरमा और पूरी हिदायत अता फरमा।
अय अल्लाह कलमा ए तैय्यब जबान पर जारी फरमा।
अय अल्लाह हमें पुरे रमजान की नेअमते​ ​बरकते अनवारात से मालामाल फरमा।
अय अल्लाह हमारे दिलोको इख्लास के साथ दीन ए इस्लाम की तरफ फेर दे।
अय अल्लाह अपनि खास रेहमत नाजिल फरमा और अपने कहर व गज़ब से बचा।
​अय अल्लाह झूठ, ग़ीबत, किना, तकब्बुर, बुराई और जगडे से हमारी हिफाज़त फरमा।
​अय अल्लाह हमारे सगीरा व कबीरा गुनाहोंको माफ़ फरमा दे।
​अय अल्लाह तंग दस्ती, खौफ, गभराहट और क़र्ज़ के बोज़ को दूर फरमा।
अय अल्लाह एक लम्हे के लिए भी हमें दुनिया के हवाले न फरमा।
अय अल्लाह हमको दज़्ज़ाल के फ़ितने, शैतान और नफ़स के शर से, मौत की सख्ती से, कबर के अज़ाब से, क़यामत की गरमी से और जहन्नम की आग से महफूज़ फरमा।
​अय अल्लाह हश्रकी​ रुस्वाईसे हमारे वालीदैन और पूरी उम्मते मुहम्मदियाकी हफ़ाज़त फरमा।
​अय अल्लाह पुलसीरत पर से बिजलीकी तरह गुजार दे।
​अय अल्लाह बिना हिसाब व किताब हमें जन्नतुल फ़िरदौस में जगह नशीब फरमा।
​​अय अल्लाह नामए आमाल हमारे दाहिने हाथमें नशीब फरमा।
अय अल्लाह अपने अर्श के साये में जगह नशीब फरमा।
अय अल्लाह हज्जे बैतुल्लाह मकबूल व मबरुर नशीब फरमा।
अय अल्लाह मुनकर नकिरैनके सवालात हम पर आसान फरमा।
अय अल्लाह हलाल रोज़ी अता फरामा।
अय अल्लाह क़यामत के रोज़ अपना दीदार अता फरामा।
अय अल्लाह हमें तेरे बन्दोंका मोहताज न बना।
अय अल्लाह औरतोंकी पूरी पूरी पाबन्दी अता फरामा।
​अय अल्लाह छोटी बड़ी हर बीमारी से ​उम्मते मुहम्मदिया की हिफाज़त फरमा।
​अय अल्लाह तक़वा और परहेज़गारी नशीब फरमा।
​अय अल्लाह हमारी कौमको सिराते मुस्तकीम पर कायम रहनेवाला बना और अपनी रजा पर राज़ी रखनेकी तौफीक अता फरमा।
​​अय अल्लाह​ हुज़ूर ए अक़दस सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमके प्यारे तरीके हमको सिखादे और उनकी सुन्नत पर चलनेकी तौफीक अता फरमा।
​​अय अल्लाह​ क़यामत के दिन हुज़ूर ए अकरम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमकी सफाअत नशीब फरमा। 
​​अय अल्लाह​ क़यामत के दिन हुज़ूर पुरनूर सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमके मुबारक हाथोंसे जामे कौसर पीना नशीब फरमा।
​​अय अल्लाह​ हुज़ूर सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमने भलाई के लिए जो दुआ मांगी उसे हमारे हक्कमें नशीब फरमा और जिन-जिन बुराइयोंसे पनाह चाहि उससे हमारी हिफाज़त फरमा।
​​अय अल्लाह​ हमारे दिलोमे अपनी और हुज़ूर सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमकी मोहोब्बत अता फरमा और उन्ही के सदकेमें हमारी इन तमाम दुआओं को कुबूल फरमा।

सहेरी में पढ़नेकी दुआ
या वसीअल फ़ज़ली, या वसीअल मग फिरती, इग फिरली।
पहले ​रोज़े से दसवें रोज़े तक पढ़नेकी दुआ
अल्ला हम्मर-हमना या अरहमर्राहेमिन
ग्यारवें रिज़े से बीसवें रोज़े तक पढ़नेकी दुआ
अल्लाह हुम्मग फिरलना ज़ोनुबना या रब्बल आलमीन
इक्कीसवें रोज़े से आखरी रोज़े तक पढ़नेकी दुआ
अल्ला हुम्मा किना अज़ाबन्नार व अद खिल्नल जन्नता माअल अबरार या अज़ीज़ु, या गफ्फार
शबे क़द्र की शबमें पढ़नेकी दुआ(शबे क़द्र की शबें २१, २३, २५, २७, २९)
अल्ला हुम्मा इन्नका अफुव्वुन तुहिब्बुल अफ़व-फअफु अन्ना या गफूरु या गफूरु या गफूरु
​रमजान शरीफमें कसरतसे चलते फिरते पढ़नेकी दुआ​
ला इलाहा इल्ललाहु अल्लाहुम्मा नस्तग फिरुका व नस्अलुकल जन्नता-व-नऊज़ुबिका मिनन्नार
Share This

Leave a Comment

Subscribe

Get the latest posts delivered to your mailbox: