Ayatul Kursi – Verse of the Throne in Hindi

2.Surah Al-Baqrah : Ayah 255
Ayatul Kursi

 

बिस्मिल्ला हिर्रहमा निर्रहीम

अल्लाहु ला इलाहा इल्लाहु अल हय्युल कय्यूम ला तअखुजुहु सिन्नतुं वला नौम लहू मा फ़िस्सामावाती व मा फिलअर्द मन जल्लज़ीय यश्फउ इन्दहू इल्ला बीइज़्निह यअलमु मा बयना अयदिहिम वमा खल्फहूम वला युहीतुना बिशयइम्मीन इलमिहि इल्ला बीमा शाअ वसीआ कुर्शिययुहुस्समावाती वल अर्द वला यउदुहु हिफ्जुहुमा वहुवल अलियुल अज़ीम

सदकल्लाहुल अज़ीम

Share This

Asma ul Husna – 99 Beautiful Names of Allah in English

asma-ul-husna

“The most beautiful names belong to Allah, so call on him by them”
-(Surah Al-A’raf : Ayah 180)

Prophet Muhammad (peace be upon him) said, “Allah ta’ala belongs 99 names, anyone who memorizes them will enter Jannah (Paradise).”
​​-(Bukhari, Muslim)

Allah The Greatest Name
1 Ar-Rahman The Most BENEFICENT
2 Ar-Rahim The Most Merciful
3 Al-Malik The King
4 Al-Quddus The Most Holy
5 As-Salam The Source of Peace
6 Al-Mu’min The Granter of security
7 Al-Muhaymin The Protector
8 Al-’Aziz THE ALL-MIGHTY
9 Al-Jabbar The Compeller
10 Al-Mutakabbir The Greatest
11 Al-Khaliq The Creator
12 Al-Bari’ The Maker of Order
13 Al-Musawwir The Shaper of Beauty
14 Al-Ghaffar The Forgiving
15 Al-Qahhar The Subduer
16 Al-Wahhab The Giver of All
17 Ar-Razzaq The Sustainer
18 Al-Fattah The Opener
19 Al-’Alim The Knower of All
20 Al-Qabid The Constrictor
21 Al-Basit The Reliever
22 Al-Khafid The Abaser
23 Ar-Rafi’ The Exalter
24 Al-Mu’izz The Bestower of Honors
25 Al-Mudhill The Humiliator
26 As-Sami The Hearer of All
27 Al-Basir The Seer of All
28 Al-Hakam The Judge
29 Al-’Adl The Just
30 Al-Latif The Subtle One
31 Al-Khabir The All-Aware
32 Al-Halim The Forebearing
33 Al-’Azim The Magnificent
34 Al-Ghafur The Forgiver and Hider of Faults
35 Ash-Shakur The Rewarder of Thankfulness
36 Al-’Ali The Highest
37 Al-Kabir The Greatest
38 Al-Hafiz The Preserver
39 Al-Muqit The Nourisher
40 Al-Hasib The Accounter
41 Al-Jalil The Mighty
42 Al-Karim The Generous
43 Ar-Raqib The Watchful One
44 Al-Mujib The Responder to Prayer
45 Al-Wasi’ The All-Comprehending
46 Al-Hakim The Perfectly Wise
47 Al-Wadud The Loving One
48 Al-Majíd The Majestic One
49 Al-Ba’ith The Resurrector
50 Ash-Shahid The Witness
51 Al-Haqq The Truth
52 Al-Wakil The Trustee
53 Al-Qawi The Possessor of All Strength
54 Al-Matin The Forceful One
55 Al-Wáli The Governor
56 Al-Hamid The Praised One
57 Al-Muhsi The Appraiser
58 Al-Mubdi The Originator
59 Al-Mu’id The Restorer
60 Al-Muhyi The Giver of Life
61 Al-Mumit The Taker of Life
62 Al-Hayy The Ever Living One
63 Al-Qayyum The Self-Existing One
64 Al-Wajid The Finder
65 Al-Májid The Glorious
66 Al-Wahid The Only One
67 Al-Ahad The One
68 As-Samad The Satisfier of All Needs
69 Al-Qadir The All Powerful
70 Al-Muqtadir The Creator of All Power
71 Al-Muqaddim The Expediter
72 Al-Mu’akhkhir The Delayer
73 Al-Awwal The First
74 Al-Akhir The Last
75 Az-Zahir The Manifest One
76 Al-Batin The Hidden One
77 Al-Walí The Protecting Friend
78 Al-Muta’ali The Supreme One
79 Al-Barr The Doer of Good
80 At-Tawwab The Guide to Repentance
81 Al-Muntaqim The Avenger, The Lord of Retribution
82 Al-Afu The Forgiver
83 Ar-Ra’uf The Clement, The Most Kind
84 Malik al-Mulk The Owner of All
85 Dhul-Jalali Wal-Ikram The Lord of Majesty and Honour
86 Al-Muqsit The Equitable One
87 Al-Jami The Gatherer
88 Al-Ghani The Rich One
89 Al-Mughni The Enricher
90 Al-Mani’ The Preventer of Harm
91 Ad-Darr The Creator of The Harmful
92 An-Nafi The Creator of Good
93 An-Nur The Light
94 Al-Hadi The Guide
95 Al-Badi The Originator
96 Al-Baqi The Everlasting One
97 Al-Warith The Inheritor of All
98 Ar-Rashid The Righteous Teacher
99 As-Sabur The Patient One

Al Asma Ul Husna – 99 Beautiful Names of Allah (Subhanahu wa Ta’ala)

अल्लाह तआला के 99 नाम हिंदी में

Share This

अल अस्मा उल हुस्ना – अल्लाह तआला के 99 नाम

asma-ul-husna

अल्लाह तआला का इर्शाद है- “और अल्लाह ही के लिए अच्छे नाम है, सो उनके ज़रिए उसको पुकारो”
-(अल अअराफ़ 180)

हज़रत अबु हुरैरह रदियल्लाहो तआला अन्हो से रिवायत है कि रसूलुल्लाह सा सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लम ने फ़रमाया “अल्लाह तआला के 99 नाम है, जिसने उनको याद किया वह जन्नत में दाख़िल होगा.” – (बुख़ारी,मुस्लिम)

अल्लाह
1 या रहमान ए बेहद रहम करने वाले
2 या रहीम ए बड़े महेरबान
3 या मालिक इ हकीकी बादशाह
4 या कुददुस ए बुराई से पाक ज़ात
5 या सलाम ए बे ऐब ज़ात
6 या मुअमिन ए अमनो ईमान देनेवाले
7 या मुह्यमिन ए निगहबान और हिफाज़त करने वाले
8 या अज़ीज़ ए इज़्ज़त के काबिल
9 या जब्बार ए सबसे ज़बरदस्त
10 या मुतकब्बिर ए बड़ाई और बुज़ुर्गी वाले
11 या खालिक ए पैदा करने वाले
12 या बारीक़ ए जान डालने वाले
13 या मुसव्विर ए सूरत देनेवाले
14 या गफ्फार ए दरगुज़र और पर्दापोसी करने वाले
15 या कहहार ए सबको अपने काबुमे रखने वाले
16 या वह्हाब ए सबकुछ अता करने वाले
17 या रज़्ज़ाक ए बहोत बड़े रोज़ी देने वाले
18 या फत्ताह ए बोहोत बड़े मुस्किलकुशा
19 या अलीम ए बोहोत बड़े इल्म देने वाले
20 या काबिज़ ए रोज़ी तंग करने वाले
21 या बासित ए रोज़ी फराख करने वाले
22 या खाफिद ए गिराने वाले
23 या राफी ए बलंद करदेने वाले
24 या मोइज़्ज़ ए इज़्ज़त देने वाले
25 या मोजिल ए जिल्लत देनेवाले
26 या समीअ ए सबकुछ सुनने वाले
27 या बसीर ए सबकुछ देखने वाले
28 या हकम ए फ़ैसला देने वाले
29 या अदल ए इन्साफ करने वाले
30 या लतीफ़ ए बड़े लुत्फ़ो करम करने वाले
31 या खबिर ए बाख़बर और आगाह
32 या हलीम ए सबसे बड़े बुज़ुर्ग
33 या अज़ीम ए सबसे शानदार
34 या गफूर ए बोहोत बख्सनेवाले
35 या सकुर ए कदरदान
36 या अली ए बोहोत बलन्द
37 या कबीर इ बोहोत बड़े
38 या हाफिज ए सबके मुहाफ़िज़
39 या मुकित ए सबको पोषने वाले
40 या हसीब ए सबके लिए किफ़ायत करने वाले
41 या जलील ए बोहोत बड़े और बलन्द मर्तबे वाले
42 या करीम ए बोहोत करम करने वाले
43 या रकीब ए बड़े निगेहबान
44 या मुजीब ए दुआए सुनने और कुबूल करने वाले
45 या वासी ए सब समझने वाले
46 या हकिम ए बड़ी हिकमतो वाले
47 या वदूद ए बड़े मुहब्बत करने वाले
48 या मजीद ए बड़े आलीशान
49 या बाइस ए मुर्दोंको ज़िंदा करने वाले
50 या शहीद ए हज़िरो नज़ीर
51 या हक़्क़ ए बारहकको बरक़रार
52 या वकील ए बड़े करसाज़
53 या कवी ए बड़ी ताकतों कुव्वत वाले
54 या मतीन ए सदीद कुव्वत वाले
55 या वली ए मददगार और हिमायती
56 या हामिद ए लायके तारीफ
57 या मुहसी ए अपने इल्म और सुमार में रखने वाले
58 या मुबदी ए पहलीबार पैदा करने वाले
59 या मुइद ए दोबारा पैदा करने वाले
60 या मुहयी ए ज़िन्दगी देने वाले
61 या मुमीत ए मौत देने वाले
62 या हय्य ए हमेशा हमेशा ज़िंदा रहने वाले
63 या कय्यूम ए सबको कायम रखने वाले और सँभालने वाले
64 या वाजिद ए हर चीज़ को पाने वाले
65 या माजिद ए बुज़ुर्गी और बड़ाई वाले
66 या वाहिद ए अकेले
67 या अहद ए एक
68 या समद ए बेनियाज़
69 या कादीर ए कुदरत वाले
70 या मुक्तदीर ए पूरी मुक़्तदर रखने वाले
71 या मुकद्दिम ए पहले और आगे काने वाले
72 या मुअख्खिर ए पीछे और बादमे रखने वाले
73 या अव्वल ए सबसे पहले
74 या आखिर ए सबके बाद
75 या ज़ाहिर ए ज़ाहिर करने वाले
76 या बातिन ए छुपाने वाले
77 या वाली ए हक़ीक़ी मालिक
78 या मुतआली ए सबसे बलन्द ओ बरकत
79 या बर्र ए बड़ा अच्छा सुलूक करने वाले
80 या तव्वाब ए बोहोत ज़्यादा तौबा कुबूल करने वाले
81 या मुन्तक़िम ए बदला लेने वाले
82 या अफुव ए बोहोत ज़्यादा माफ़ करने वाले
83 या रउफ ए बोहोत बड़े महेरबान
84 या मलिकुल मुल्क ए मुल्कों के मालिक
85 या जलजलाली वल्इकराम ए अज़्मतों ज़लाल और इनामों इकराम वाले
86 या मुकसित ए अदलो इंसाफ कायम करने वाले
87 या जामी ए सबको जमा करने वाले
88 या गनी ​ए बेनीयाजो बे परवाह
89 या मुग़नी ​​ए बेनीयाजो​ गनी बनादेने वाले
90 या मानि ए रोकदेने वाले
91 अज़ ज़ार ​ए जरर​ पहोचाने वाले
92 या नाफ़ी ए नफा पहोचाने वाले
93 या नुर ए मुनव्वर करने वाले
94 या हदी ए सीधा रास्ता दीखाने वाले
95 या बदी ए बेमिसाल चिज़ोंको एज़ाद करने वाले
96 या बाकी ए हमेशा हमेशा बाकि रहने वाले
97 या वारिस ए सबके बाद मौजूद रहने वाले
98 या रशीद ए सीधी राह दिखाने वाले
99 या सबुर ए बड़े सब्र करने वाले

Asma ul Husna – 99 Beautiful Names of Allah

Asma ul Husna – 99 Beautiful Names of Allah in English

Share This

4. Kalima Tauhid (The word of Unity) with English Translation

Translation

(There is) none worthy of worship except Allah. He is only (There is) no partners for Him. For Him (is) the Kingdom. And for Him (is) the Praise. He gives life and causes death. And He (is) Alive. He will not die, never, ever. Possessor of Majesty and Reverence.In His hand (is) the goodness. And He (is) the goodness. And He has power over everything.

Share This

5. Kalima Astaghfar (The word of Penitence) with English Translation

Translation

I seek forgiveness from Allah, my Lord, from every sin I committed knowingly or unknowingly, secretly or openly, and I turn towards Him from the sin that I know and from the sin that I do not know. Certainly You, You (are) the knower of the hidden things and the Concealer (of) the mistakes and the Forgiver (of) the sins. And (there is) no power and no strength except from Allah, the Most High, the Most Great

Share This
Subscribe

Get the latest posts delivered to your mailbox: