म्यूचुयल फंड और स्टॉक मार्केट मे निवेश (Invest) करना शरीयत (Shariah) मे हलाल है या हराम

stock market, mutual funds

म्यूचुयल फंड और स्टॉक मार्केट मे निवेश करना शरीयत मे हलाल है या हराम? – Are Mutual Funds and Stock Market investment Halal or Haram in Shariah?

म्यूचुयल फंड और स्टॉक मार्केट इस्लामिक शरीयत के अनुसार हलाल है या हराम ये जानने के लिए सबसे पहले हमे ये जानना होगा के म्यूचुयल फंड और स्टॉक मार्केट कया है और कैसे काम करते है| तो आज मै आपको बताउँगा के म्यूचुयल फंड और स्टॉक मार्केट क्या है और वो शरित मे हलाल है या हराम| इससे पहले मे अपपको बतादूं के मे कोई आलीम (isamic scholar) नही हू, मे बस अपनी राई (opinion) बता रहा हू|

स्टॉक मार्केट क्या हे? What is Stock Market? Is Share Market Halal or Haram?

तो सबसे पहले जानते है के स्टॉक मार्केट क्या होता हे, स्टॉक मार्केट या शेयर बाज़ार उसमे बोहतसी कंपनियाँ होती है जिसके आप शेयर खरीद सकते है, इसमे कई प्रकार के ट्रेडिंग होते है जैसे Intraday Trading (एक ही दिन मे शेर खरीदना और बेचना), Future and Optionss Trading , Swing Trading (शेर खरीद ने के कुच्छ दीनो बाद बेचना), लेकिन, इनमे से कोई भी ट्रेडिंग सही नही हे. अगर आप शेर खरीद ते है तो उसे लंबे समय के लिए खरीदे यही सही तरीका है. जब आप किसी कंपनी के शेर खरीदते है तो अप उस कंपनी के हिस्सेदार (Partner) बन जाते है और हिस्सेदारी (Partnership) एक दिन या कुछ दीनो की तो नही होती, इसलिए शेर्स को लंबे समय के लिए ही खरीदे. शेयर खरीदने के बाद आप जब चाहै तब शेयर बेच सकेते है इसमे आप को फायदा भी हो सकता है और नुकसान भी लेकिन ये कोई जुआ नही है हर बिज़्नेस की तरहा इसमे भी फायदा और नुखसान होते है| अगर आप शेयर को सस्ते भाव मे खरीदते है और जब भाव ज़्यादा हो तब बेचते है तो आपको नुकसान नही होता फायदा ही होता है, पर नये लोग जिन्हे स्टॉक मार्केट की ज़्यादा जानकारी नही होती वो हमेशा ये ग़लती करते है की जब स्टॉक का भाव ज्यदा हो तब खरीद लेते है और जब मार्केट मे मंदी होती है और स्टॉक्स के भाव कम हो जाताहे है तब उसे बेच कर मार्केट से बाहर निकल जाते है और उन्हे भारी नुखसान भी होता है और फिर वो लोग मार्केट को जुआ समजने लगते है, पर ऐसा नही है हर बिज़्नेस मे ऩफा नुकसान होता रहता है इसी तरहा स्टॉक मार्केट मे भी शेयर के भाव कम भी होते है और बढ़ते भी है| अगर आप को स्टॉक मार्केट मे नुकसान नही उठाना है तो आपको एसी कंपनी के शेयर खरीदने चाहिए जिसे आप अच्छे से जानते हो और उसेके बिज़्नेस को अच्छे से समजते हो और जब मार्केट गिर रहा हो तू उस्वक्त अपना पैसा निकाले नही हो सके तो और ज़यादा इनवेस्ट करें ताकि जब मार्केट उपर आए तो आपको ज़्यादा फायदा हो सके|

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें? How to invest in the stock market?

सबसे पहले तो स्टॉक मार्केट मे निवेश करनेके लिए आपको डीमेट अकाउंट (Demat Account) की ज़रूरत होतीहै, डीमेट अकाउंट वो होताहे जहाँ हम शेर्स खरीद कर रखते है.
अब आपने येतो जानलिया की स्टॉक मार्केट क्या होता है, तो क्या हम किसिभि कंपनी के शेयर खरीद सकते है? कीसीभी कंपनी के शेर को खरीदनेसे पहले उस कंपनी के बारे मे जानना बोहोत ज़रूरी होता है की वो कंपनी किस प्रकार का बिज़्नेस करती है और मार्केट मे उसका प्रदर्शन performance कैसा है उस कंपनी के शेयर की कीमत आगे जाके बढ़ सकती है या नही, लेकिन एक मुस्लिम के लिए सबसे ज़्यादा ज़रूरी बात ये आती है के जो बिज़्नेस ये कंपनी करती है वो इस्लामिक शरीयत मे हलाल है या नही| तो मैने एक लिस्ट बनाई हे जो बिज़्नेस शरीयत मे हराम है और मुस्लिम निवेशक investor को इसमे निवेश invest नही करना चाहिए वो लिस्ट नीचे दी गई है.

नीच दिए गये बिज़्नेस मे निवेश invest करना शरीयत मे हराम है.

TV Broadcasting, Film Production, Distribution & Entertainment – TV प्रसारण, फिल्म उत्पादन, वितरण, मनोरंजन
Alcohol शराब
Gambling जुआ
Pornography, drugs etc अश्‍लील साहित्य
armaments and destructive weapons हानिकारक हथियार
pork and related by-products सुअर का मांस
dead animals not slaughtered according to the rules of the Sharia(non-halal food products) मृत जानवर
gold and silver सोना और चांदी
Insurance बीमा
Private Bank निजी बैंक
Public Banks सार्वजनिक बैंक
Breweries & Distilleries शराब की भठ्ठी, शराब बनाने का स्थान
Cigarettes/Tobacco सिगरेट, तंबाकू
Housing Finance आवास वित्त
Investment Finance निवेश वित्त
Non-Banking Financial Company – गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी
Term Lending टर्म लैंडिंग
Amusement Parks/Recreation/Club मनोरंजनकारी उद्यान, मनोरंजन, क्लब

शरीयत अनुसार हलाल कंपनी कैसे चुने? How to choose a halal company according to Sharia?

Idafa Investment Pvt. Ltd. ने 500 कम्पनियों की लिस्ट बनाई है जो शरीयत अनुसार हलाल है जिसकी लिंक नीचे नीचे दी गयी है.
शरीयत अनुपालन कंपनियों की सूची(List of Shariah Compliant Companies Released) – यहाँ क्लिक करें

म्यूचुअल फंड निवेश Mutual Fund Investment

म्यूचुयल फंड क्या है. Is Mutual fund Halal or Haram?

हमने ये तो जानलीया के स्टॉक मार्केट क्या हे इसमे हलाल क्या है और हराम क्या है. अब जानते है के म्यूचुयल फंड क्या है और म्यूचुयल फंड हलाल हे या हराम. म्यूचुयल फंड वो होताहै जिसमे आप अपने पैसा इनवेस्ट करते है और उसका मॅनेजर जो है आपके पैसे को स्टॉक मार्केट मे इनवेस्ट करता है मतलब आपका पैसा जो है म्यूचुयल फंड के माध्यम से स्टॉक मार्केट मे इनवेस्ट होता है. लेकिन म्यूचुयल फंड आपके पैसे को बहुतसी कंपनी के स्टॉक्स मे इनवेस्ट करता है उनमेसे कई कंपनिया शरीयत मे हराम होती है इसीलिए शरीयत के अनुसार आप म्यूचुयल फंड मे इनवेस्ट नही करसकते, अगर आप इनमे इनवेस्ट करते है तो जो पैसा आपको रिटर्न के तौर पर मिलेगा उसका कुछ हिस्सा ब्याज interest भी होसकता है और कुछ मादक Alcoholic, तंबाकू Tobacco कम्पनियो का होसकता है जो शरियत मे हराम है. लेकिन फिरभी, अगर आपके पास स्टॉक मार्केट की ज़्यादा जानकारी नही है और स्टॉक मार्केट मे जोखिम Risk लेना नही चाहते और म्यूचुयल फंड मे इनवेस्ट करना चाहते है तो 2 ऐसे म्यूचुयल फंड्स है जो शरीयत की 500 कंपनीज़ मेसे कुछ मे इनवेस्ट करते है!

1. Tata Ethical Fund
2. Taurus Ethical Fund

क्यूकी ये दोनोही फंड्स सिर्फ़ ईक्विटी Equity मे इनवेस्ट करते हे और दोनो ही sector/themetic वर्ग category के फंड्स है तो इनमे दूसरे फंड्स की तुलनामे जोखिम Risk ज़्यादा होता है इसी लिए ज्यादातर निवेशक investor ऐसे फंड्स मे इनवेस्ट करना पसंद नही करते. शरीयत के अनुसार केवल ये 2 ही म्यूचुयल फंड्स है जिनमे आप इनवेस्ट करसकते है, पर मे आपको फिरसे बतादूं इस मे बाकी फंड्स के मुक़ाबले जोखिम Risk ज़यादा होता है और अगर आप को इनवेस्ट करनाही है तो आप इन दोनो म्यूचुयल फंड्स मे Monthly SIP कर सकतेहे जिसमे आपको हर महीने पैसे जमा करना होता है सारा पैसा एक साथ ना भरें और Monthly SIP अपनी आय Income और खर्च से 20% ya 30% ही करें|

ETF – Exchange Traded Funds

ETF एक तरह का स्टॉक होताहै जो म्यूचुअल फंड के जैसा ही होताहै. इसके लिए भी डीमेट अकाउंट (demat account) की ज़रूरत होतीहै.
इस्लामी शरीयत को ध्यान मे रख कर आप Nippon India ETF Shariah BeES मे निवेश कर सकते है.

मे आशा कर्ताहु के मेरी इस पोस्ट से आपको समज आ गया होगा के शरियत के अनुसार स्टॉक मार्केट या म्यूचुयल फंड मे किस तरहा इनवेस्ट कर सकते है.

अगर आपको ये पोस्ट अच्छि लगी हो तो Whats App, Facebook Twiiter और दूसरे Social Media पर शेयर ज़रूर करे ताकि जो मुस्लिम भाई इसके बारे मे नही जानते उन्हे भी पता चले. अगर आपके मनमे इस बारेमे कोई सवाल हो तो कॉमेंट करे.

Subscribe

Signup for the Mushammadi Site Newsletter and get new post notifications straight to your inbox!

2 thoughts on “म्यूचुयल फंड और स्टॉक मार्केट मे निवेश (Invest) करना शरीयत (Shariah) मे हलाल है या हराम”

    • We are writing in both Hindi and English languages, some articles are not available in both languages.
      But, we are working hard to provide you all articles and both Hindi and English languages.
      As per your request, I will definitely write this article in English.

      Thanks

      Reply

Leave a Comment